phone+91 8899889988

धन योग

Date of birth
Time of birth
 

By clicking on below button I agree T & C and varsity can call me for further consultation.

क्‍या है धन योग ?

कुंडली में धनयोग से बढिया और कोई सुख नहीं है। धन-वैभव की प्राप्ति हेतु कुंडली में धन योग या लक्ष्मी योग काफी महत्वपूर्ण है। कुंडली में बनने वाले कुछ विशेष योग के प्रभाव में व्यक्ति धनवान बन सकता है। जन्म कुंडली का दूसरा भाव धन-संपत्ति का कारक है। इस भाव में शुभ ग्रहों की उपस्थिति में व्यक्ति को अपार धन-संपत्ति की प्राप्ति होती है।

प्रभावित जातक

धन भाव से प्रभावित जातक का जीवन किसी राजा से कम नहीं होता। इस योग के बनने पर जातक को मेहनत के बिना भी धन की प्राप्ति होती है। इन्हें धन मेहनत से नहीं बल्कि किस्मत से मिलता है। धनयोग से अधिक सुखमय शायद ही कोई योग होगा। इससे प्रभावित जातक दीर्घायु एवं स्वस्थ जीवन व्यतीत करता है। इनका संपूर्ण जीवन धन-वैभव से संपन्न होता है।

प्रभाव

  • लग्न भाव के स्वामी के दशम भाव में होने पर जातक अपने पिता से भी अधिक धन अर्जित करता है।
  • यदि सातवें घर में मंगल या शनि हो अथवा ग्यारहवें घर में राहु के अलावा कोई भी ग्रह उपस्थित हो तो व्यक्ति को व्यापार में अत्यधिक धन लाभ की संभावना होती है।
  • ग्यारहवें भाव में केतु के विराजमान होने पर जातक को विदेश से आय होती है।
  • दूसरे भाव के स्वामी के आठवें घर में होने पर जातक अपनी मेहनत और परिश्रम से संपन्न बनता है।
  • बुध ग्रह के कर्क या मेष राशि में होने पर व्यक्ति का जीवन सुखों से परिपूर्ण रहता है।
  • यदि सूर्य पंचम भाव में, मंगल चतुर्थ भाव में या बृहस्पति ग्यारहवें भाव में हो तो जातक को पैतृक संपत्ति का लाभ होता है।
  • किसी भी भाव में बृहस्पति, बुध और शुक्र की युति होने पर जातक धार्मिक कार्यों से धन अर्जित करता है।
  • सातवें घर में शनि और मंगल की उपस्थिति में व्यक्ति खेल एवं जुंए से पैसा कमाता है।
  • दशमेश के वृषभ, तुला और शुक्र राशि में प्रवेश करने पर व्यक्तिं को अपनी पत्नी के माध्यम से धन लाभ होता है।
  • सातवें घर में मंगल, शनि और राहु के होने पर जातक कमीशन के कार्य से धन अर्जित करता है।
  • षष्टम, अष्टम और बारहवें भाव के स्वामी के छठे, आंठवें, बारहवें और ग्यारहवें घर से संबंधित होने पर जातक को अचानक धन लाभ होता है।
  • शनि ग्रह के चौथे घर में तुला, मकर या कुंभ राशि के साथ होने पर जातक एक संपन्न गणितज्ञ, अकांउटेंट और सांख्यिकीय बनता है।
  • पंचमेश के दसवें घर में होने पर व्यक्ति को अपनी संतान से धन लाभ होता है।

उपाय

  • सवा पांच किलो आटा और सवा किलो गुड़ के मिश्रित आटे की रोटियां बनाकर गुरुवार के दिन शाम के समय गाय को खिलाएं। नियमित तीन गुरुवार तक यह उपाय करने से धन का अभाव खत्म होगा।
  • ॐ श्री ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद श्रीं ह्रीं श्रीं ॐ महालक्ष्मयै नमः। प्रतिदिन कमलगट्टे की माला से इस मंत्र का जप करने से कर्ज से मुक्ति मिलती है।
  • मां लक्ष्मी के आगे 11 दिनों तक अखंड ज्योत प्रज्ज्वलित करें एवं 11वें दिन ग्यारह कन्याओं को भोजन करा कर एक सिक्का व मेहंदी भेंट करें।
  • अचानक धन लाभ के लिए बरगद की जटा में एक गांठ लगा दें लेकिन धन लाभ के पश्चात् इसे अवश्य ही खोल दें।
  • काली हल्दी को सिंदूर और धूप देकर लाल कपड़े में लपेटकर एक-दो सिक्कों के साथ तिजोरी में रखें। इस उपाय से धन प्राप्ति संभव है।
  • धन लाभ हेतु शुक्रवार के दिन गोधूलि वेला में श्री महालक्ष्मी या तुलसी के पौधे के आगे गौ घृत का दीपक जलाने से अवश्य ही लाभ होगा।
  • सवा पांच किलो आटा और सवा किलो गुड़ के मिश्रित आटे की रोटियां बनाकर गुरुवार के दिन शाम के समय गाय को खिलाएं। नियमित तीन गुरुवार तक यह उपाय करने से धन का अभाव खत्म होगा।
  • ॐ श्री ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद श्रीं ह्रीं श्रीं ॐ महालक्ष्मयै नमः। प्रतिदिन कमलगट्टे की माला से इस मंत्र का जप करने से कर्ज से मुक्ति मिलती है।
  • मां लक्ष्मी के आगे 11 दिनों तक अखंड ज्योत प्रज्ज्वलित करें एवं 11वें दिन ग्यारह कन्याओं को भोजन करा कर एक सिक्का व मेहंदी भेंट करें।
  • अचानक धन लाभ के लिए बरगद की जटा में एक गांठ लगा दें लेकिन धन लाभ के पश्चात् इसे अवश्य ही खोल दें।
  • काली हल्दी को सिंदूर और धूप देकर लाल कपड़े में लपेटकर एक-दो सिक्कों के साथ तिजोरी में रखें। इस उपाय से धन प्राप्ति संभव है।
  • धन लाभ हेतु शुक्रवार के दिन गोधूलि वेला में श्री महालक्ष्मी या तुलसी के पौधे के आगे गौ घृत का दीपक जलाने से अवश्य ही लाभ होता है।